ब्रेक अप

अगर हमने पूरी तरह, विस्तार में मुहोब्बत की होती,
कण-कण, हर क्षण
अगर हमने उसे संगठित कर एक सूचित जगह रखा होता,
अगर हमने अपना सब कुछ दिया होता,
न सिर्फ़ थोड़ा-बहुत,
बाकि मुहोब्बत बाद के लिए छोड़।
हवा के लिए,
चमकीले चारागाहों के लिए
खाली मेज़ों पर पड़ी किताबों के लिए– हमारी मुहोब्बत ।
यदि हमने उसे बंडल में डाल सलीके से सुन्दर फीते से बांधा होता,
शायद हम उसे आसानी से ढूंढ लेते,
शायद आसानी से वापस ले सकते।
शायद अलग होने में आसानी होती ।
अब हम बारिश में पहने हुए जूतों से सूखी मिट्टी के परत कि भांति गिरते हैं।
बेचैन बारासिंघा के सींघ से रगड़ी छाल की तरह छिलते हैं ।
सर्दियों के अंत में बर्फ पर पड़ी दरारों की तरह चटकते हैं।
मेरे बाल तुम्हारी खाने की मेज़ पर बिछे हुए हैं,
मेरे होठ तुम्हारे गुसलखाने के शीशे पर गढ़े हुए,
मेरी आँखें तुम्हारी अलमारी में लगातार पलक झपकती हैं।
और तुम्हारा दिल?
वो मेरे पास अभी भी है।
कहाँ, वो मै तुम्हे नही बताऊँगी।
पर अपने-आप को कैसे ढूंढूँ मै?
मेरे फेफड़े अभी भी तुम्हारी हथेली में
साँस छोड़ने का इंतज़ार कर रहे हैं।

अनुवाद: मंजरी

Original poem by Trishna Senapaty-

The break-up

Had we loved wholly and completely
with every pore and in every minute,
had we consolidated our love in a listed location,
had we given all, instead of some
leaving the rest for later–
our love for the air,
for flowers in bright meadows,
for books on bare table- tops.
Had we packaged it neatly and ribboned it down,
Perhaps it would be easier to find,
perhaps it would be easier to take back,
perhaps it would be easier to break apart.
Instead now we fall like flakes of dried mud from rain-worn boots
Peel like bark scraped away by the antlers of restless deer
Crack like ice as winter finally draws to a close.
Reams of my skin are still in your library,
my hair spread out on your dining table,
my lips carved on your bathroom mirror
my eyes blinking endlessly in your closet.
As for your heart,
I still have your heart,
But where, I will not tell you.
And how do I find myself,
My lungs still cupped in your palms,
waiting to exhale.

[Note: for more poems by Trishna Senapaty, visit her poetry blog: http://trishnasenapaty.wordpress.com%5D

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s